October 16, 2021

GDT LIVE

सच का साथी

यूपी के इस शहर में ब्लैक फंगस के 41 मरीजों की जान खतरे में, जाने क्या है वजह

1 min read

कानपुर। म्यूकोर माइकोसिस यानी ब्लैक फंगस के मरीजों में सबसे कारगर लाइपोसोमॉल एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन शहर में बुधवार खत्म हो गए। आखिरी वॉयल भी बीती रात जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में मरीज को लगा दिया गया है। इंजेक्शन खत्म होने से डॉक्टरों की मुश्किलें और मरीजों का खतरा बढ़ गया है। ब्लैक फंगस के हैलट में 34 तो निजी अस्पतालों में 7 मरीज भर्ती हैं। मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने बुधवार को भी यूपी मेडिकल कॉरपोरेशन को हर दिन की तरह अपना मांग पत्र भेज दिया है, लेकिन लाइपोसोमॉल एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन की भारी किल्लत है। यहां भी पढ़े:सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से टीकाकरण नीति पर मांगा जवाब, वैक्सीन लेने के लिए रखे 35 हजार करोड़ रुपये कैसे खर्च किए: जाने विस्तार से

डॉक्टरों ने इसके विकल्प के तौर पर दूसरे एंटी फंगल इंजेक्शन का इस्तेमाल शुरू कर दिया है। कॉरपोरेशन दावा कुछ भी करे लेकिन हकीकत यह है कि मेडिकल कॉलेज के 820 लाइपोसोमॉल एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन के आवंटन में सिर्फ 125 वॉयल ही भेजे गए हैं। ब्लैक फंगस में कारगर लाइपोसोमॉल एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन का संकट पैदा हो गया है। कारपोरेशन को डिमांड भेजी गई है। उम्मीद है कि एक-दो दिन में स्टॉक आ जाएगा।
प्रो.आरबी कमल, प्राचार्य जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज

1 thought on “यूपी के इस शहर में ब्लैक फंगस के 41 मरीजों की जान खतरे में, जाने क्या है वजह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.