February 3, 2023

गणतंत्र दिवस पर इस बार 25 पाउंडर तोपों से नहीं दी जाएगी सलामी

1 min read

 16 total views,  4 views today

दिल्ली। इस साल गणतंत्र दिवस पर 25 पाउंडर पुरानी तोपों के बजाय नए 105 एमएम इंडियन फिल्ड गन से राष्ट्रीय ध्वज को 21 तोपों की सलामी दी जाएगी। यह फैसला सरकार की मेक इन इंडिया पहल को और आगे बढ़ाने के उद्देश्य से लिया है। दिल्ली क्षेत्र के चीफ ऑफ स्टाफ मेजर जनरल भावनीश कुमार ने सोमवार को संवाददाताओं से कहा हम स्वदेशीकरण की ओर जा रहे हैं और वह समय दूर नहीं जब सभी उपकरण स्वदेशी होंगे। उन्होंने बताया कि सेना द्वारा गणतंत्र दिवस परेड में प्रदर्शित किए जाने वाले सभी उपकरण भारत में बने हैं जिनमें आकाश हथियार प्रणाली और हेलीकॉप्टर, रुद्र और एएलएच ध्रुव शामिल हैं।

कुमार ने बताया, इस साल 21 तोपों की सलामी 105 मिलीमीटर इंडियन फिल्ड गन से दी जाएगी जो 25 पाउंडर का स्थान लेंगी। गौरतलब है कि 2281 फिल्ड रेजीमेंट की 1940 के शुरुआत में निर्मित सात तोपों से राजपथ (अब कर्तव्य पथ) पर आयोजित गणतंत्र दिवस परेड में सलामी देने के लिए गोले दागे जाते थे। इनका निर्माण ब्रिटेन में हुआ था और इन्होंने द्वितीय विश्वयुद्ध में हिस्सा लिया था।

कुमार ने बताया कि वर्ष 1972 में 105 इंडियन फिल्ड गन को डिजाइन किया गया था और गन कैरेज फैक्टरी जबलपुर और फिल्ड गन फैक्टरी कानपुर में इनका निर्माण होता है और वर्ष 1984 से ही ये सेवा में है। गणतंत्र दिवस समारोह से पहले राजधानी दिल्ली में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। पुलिस और अन्य सुरक्षाकर्मी यहां गहन जांच अभियान चला रहे हैं। गणतंत्र दिवस परेड के पूर्वाभ्यास से पहले लगाए गए प्रतिबंधों के कारण सोमवार को सुबह यात्रियों को मध्य दिल्ली की सड़कों पर लंबे जाम में फंसना पड़ा। पुलिस ने कहा कि उन्हें कई यात्रियों के फोन आए और उन्होंने यातायात की समस्या के बारे में बताया। विकास मार्ग (लक्ष्मी नगर से आईटीओ तक), प्रगति मैदान, और अक्षरधाम में यातायात की रफ्तार बिल्कुल थम सी गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed