लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए बनी वैक्सीन की गुणवत्ता सौ प्रतिशत बनाए रखने की तैयारी कर ली है। सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर प्रदेश के सभी 75 जिलों में कोरोना वैक्सीन के लिए 15 दिसंबर तक कोल्ड चेन बरकरार रखने की व्यवस्था सुदृढ़ हो जाएगी। उन्होंने इसके साथ ही प्रदेश में पर्याप्त संख्या में वैक्सीन लगाने वालों यानी वैक्सीनेटर की उपलब्धता पर भी जोर दिया है। प्रदेश भर की रिपोर्ट लेने के बाद कोरोना से बचाव के लिए जनता को जागरूक करते रहने और जांच पूरी क्षमता से करते रहने के लिए कहा है। 

कोरोना वैक्सीन को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अधिकारी वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चित करेंगे। सीएम योगी आदित्यनाथ ने 15 दिसंबर तक कोरोना वैक्सीन को लेकर सभी काम पूरा करने की जानकारी देने के साथ ही कहा कि कोरोना वैक्सीन सबको दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कोविड-19 के टीकाकरण के संबंध में सभी तैयारियों को व्यवस्थित और समयबद्ध ढंग से करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोविड-19 टीकाकरण का काम अंतर्विभागीय समन्वय से किया जाए। इसके लिए सभी प्रबंध कर लें। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि टीकाकरण के लिए सभी जिलों में 15 दिसंबर तक कोल्ड चेन की मजबूत व्यवस्था बना लें, जिससे वैक्सीन की गुणवत्ता में कोई कमी न आने पाए।

उन्होंने कहा कि टीकाकरण के लिए प्रदेश की विशाल जनसंख्या को देखते हुए पर्याप्त संख्या में वैक्सीनेटर की जरूरत होगी। उनके प्रशिक्षण की व्यवस्था कर ली जाए। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश के सभी नागरिकों की स्वास्थ्य सुरक्षा हमारी शीर्ष प्राथमिकता है। हमने कोविड-19 के टीकाकरण की सफलता के लिए प्रदेश के सभी जिलों में 15 दिसंबर तक वैक्सीन को बेहद कारगर बनाए रखने के लिए कोल्ड चेन की सुदृढ़ व्यवस्था सुनिश्चित कर ली है। इससे वैक्सीन की गुणवत्ता में कोई भी कमी नहीं आ पाएगी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारी सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुशल मार्गदर्शन में कोरोना वायरस पर जीत सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश में कोविड-19 के टीकाकरण कार्य को सुव्यवस्थित एवं समयबद्ध ढंग से संपन्न करने के लिए पूर्णत: कटिबद्ध है। प्रदेश में यह कार्य अन्तॢवभागीय समन्वय से संचालित किया जाएगा।

 कोरोना वैक्सीन को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अधिकारी वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चित करेंगे। सीएम योगी आदित्यनाथ ने 15 दिसंबर तक कोरोना वैक्सीन को लेकर सभी काम पूरा करने की जानकारी देने के साथ ही कहा कि कोरोना वैक्सीन सबको दी जाएगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि टीम वर्क से हम कोरोना को परास्त करने की दिशा में सतत आगे बढ़ रहे हैं। हमारे मेडिकल कॉलेजों, अस्पतालों, निजी अस्पतालों व केंद्रीय संस्थानों के टीम वर्क का ही परिणाम है कि मात्र 72 टेस्ट रोज की क्षमता वाले प्रदेश के पास आज कोविड-19 के 2 लाख टेस्ट प्रतिदिन करने का सामर्थ्य है। सभी राजकीय एवं निजी मेडिकल कॉलेजों में नवस्थापित बीएसएल लैब तथा एफेरेसिस व केमिल्यूमिनिसेन्स की व्यवस्था किसी भी महामारी से लडऩे के लिए तैयार है। कोरोना को परास्त करने के लिए यह अत्यंत उपयोगी सिद्ध होंगे। प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा विभाग का यह प्रयास सराहनीय है।

कोरोना संक्रमण के प्रसार के खिलाफ उत्तर प्रदेश सरकार की नीतियों को बेहद कुशलता से क्रियान्वित करने वाले प्रशासनिक अधिकारियों, मेडिकल और पैरामेडिक्स स्टाफ के समर्पित प्रयासों का ही यह परिणाम है कि उत्तर प्रदेश के कोविड मैनेजमेंट की अंतरराष्ट्रीय संस्थानों ने प्रशंसा की है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जब तक कोरोना की कोई वैक्सीन नहीं आ जाती है, तब तक सतर्कता और बचाव ही इसका उपचार है। कोरोना को लेकर पूरे विश्व में शोध कार्य चल रहा है। सभी देश में हो रहे शोधों से सकारात्मक परिणाम आ रहे हैं। इसके साथ ही प्लाज्मा थेरेपी के सकारात्मक परिणाम आ रहे हैं। अब तो इसे व्यापक रूप से प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पिछले आठ महीनों से पूरी दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है।

उत्तर प्रदेश में सभी ने बेहतरी प्रदर्शन करते हुए इस चुनौती का धैर्य के साथ मुकाबला किया और बेहरीन मिसाल पेश की है। इसी का परिणाम है कि अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं ने भी उत्तर प्रदेश में कोविड मैनेजमेंट की प्रशंसा की है। यह सब केंद्र और राज्य सरकार के समन्वित प्रयास से संभव हो सका है। यह टीम वर्क का ही परिणाम है कि आज हम प्रदेश में करीब पौने दो लाख कोरोना टेस्ट करने की क्षमता विकसित कर चुके हैं।

कोविड -19 प्रबंधन में सीएम योगी आदित्यनाथ का दुनिया ने माना लोहा

कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार पर अंकुश लगाने के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयास की लोहा दुनिया मान चुकी है। उनके प्रबंधन की दुनिया में तारीफ हो रही है। प्रदेश में इस वैश्विक महामारी पर अंकुश लगाने के लिए कुल 674 कोविड अस्पताल तैयार करने के साथ अस्पतालों में बिस्तरों की कुल उपलब्धता 1.57 लाख की गई। राज्य के सभी 75 जिलों में आईसीयू बेड वाले कम से कम एक या एक से अधिक लेवल-2 कोविड अस्पताल तैयार किए गए। इनके इस प्रयास की सराहना विश्व स्वास्थ्य संगठन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की है। कोरोना से निपटने की सबसे दमदार और सफल रणनीति लागू कर दुनिया के सामने मिसाल पेश कर चुकी योगी आदित्यनाथ सरकार ने एक बार फिर कोरोना को मात देने के लिए कमर कस ली है। दिल्ली के हालात को देखते हुए राज्य सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी से सटे उत्तर प्रदेश के जिलों में सतर्कता बढ़ा दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *