लखनऊ। रक्षा बंधन की तरह भाई दूज के अवसर पर बंदियों तक उनकी बहनों का प्यार पहुंचाने के लिए कारागारों में विशेष प्रबंध किए जा रहे हैं। कोरोना संक्रमण के चलते बहनें अपने भाइयों तक मिठाई तो नहीं पहुंचा सकेंगी, लेकिन उनका टीका, संदेश व पूजन सामग्री पहुंचाने के लिए स्पेशल डेस्क बनाई जाएगी। डीजी जेल आनंद कुमार ने सभी जेलों के बाहर हेल्पडेस्क बनाए जाने का आदेश दिया है। 

कारागार में भाई दूज 16 नवंबर को मनाया जाएगा और बहनों को अपना टीका व सामग्री 14 नवंबर शाम चार बजे तक हेल्पडेस्क में जमा कराने का मौका होगा। दीपावली व भाई दूज पर बंदियों से मुलाकात प्रतिबंधित रहेगी। डीजी जेल ने कहा है कि हेल्पडेस्क पर कोविड-19 की गाइड लाइन के अनुरूप कोरोना से बचाव के सभी बंदोबस्त किए जाएं। हेल्पडेस्क र आगन्तुकों की सामग्री की जांच के बाद उसे एक लिफाफे में रखकर बंदी का नाम तथा परिवारीजन का ब्योरा दर्ज किया जाएगा। परिवारीजन को उसकी रसीद भी दी जाएगी।

भाई दूज के दिन संबंधित सामग्री बंदियों तक पहुंचाई जाएगी। डीजी जेल ने कहा है कि मिठाई अथवा कोई खाद्य सामग्री स्वीकार नहीं की जाएगी। सभी जेलों की कैंटीन में ब्रांडेड मिठाई के पैकेट उपलब्ध कराए जाने के निर्देश भी दिए गए हैं। डीजी जेल ने कहा है कि परिवारीजन से प्राप्त सामग्री को सैनीटाइज करने के बाद ही बंदियों तक पहुंचाया जाए। भाई दूज के दिन बंदियों के विशेष भोजन का बंदोबस्त किए जाने का निर्देश भी दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *